जय जवान, जय किसान , जय विज्ञान

| स्वयं बनाये रसायन मुक्त खेती में प्रयुक्त होने वाली दवा, खाद एवं अन्य सामग्री |

फायदे :

  1. फसलों कि कीट रोधी क्षमता में बढ़ोतरी

  2. पौधों कि संतुलित बढवार

  3. कम मेहनत के साथ साथ सिर्फ 24 घंटे में तैयार

सामग्री:

  1. 1 लीटर गौ मूत्र

  2. 1 किलो गोबर

  3. 250 ग्राम गुड या 500 ग्राम सड़े हुए मीठे फल

  4. 10 लीटर पानी

बनाने कि विधि :

  1. 10 लीटर पानी में गोबर को मिलाये|

  2. इसके बाद गौ मूत्र मिलाएं|

  3. गुड को छोटे छोटे टुकड़े में तोड़ लें एवं थोड़े से पानी में मिलाएं| ध्यान रखे कि गुड का कोई टुकड़ा/गांठ न बचा हो, सभी पूरी तरह मिला लें |

  4. गुड के घोल को गोबर एवं गौमूत्र में मिला लें 

  5. घोल को ढक कर मिट्टी के बर्तन में 24 घंटे के लिए छोड़ दें | बर्तन के मुह को सूती कपड़े से ढक दें 

उपयोग करने का तरीका :

छिडकाव हेतु :

  • 10 लीटर पानी में 1 लीटर अमृत घोल मिलकर छिडकाव करें |

  • फसल कि बढवार एवं आवश्यकता अनुसार 8-12 दिन के अनातारल में इसका छिडकाव किया जा सकता है |

सिंचाई में :

  • एक एकड़ खेत के लिए 80-100 लीटर अमृत घोल सिंचाई के साथ उपयोग करें |

 

अधिक जानकारी के लिए: 

पत्राचार हेतु : वैदिक वाटिका, कैलाश ट्रेडिंग कंपनी के निकट, रास्ट्रीय राजमार्ग 78 . गम्हरिया, जशपुर नगर ४९६३३१ , छत्तीसगढ़ 

ईमेल : INFO@VEDICVATICA.ORG