Posted on

मटका खाद

जय जवान, जय किसान , जय विज्ञान

| स्वयं बनाये रसायन मुक्त खेती में प्रयुक्त होने वाली दवा, खाद एवं अन्य सामग्री |

मटका खाद के फायदे :-

किफायती | सभी जगह आसानी से बनाया जा सकता है | मटका खाद बनाने के लिए सामग्री गाँव में ही उपलब्ध | खेत की उपजाऊ क्षमता  एवं सूक्ष्मजीवों की संख्या में तीव्र विकास | सही अंतराल में इस्तमाल से किसी भी अन्य खाद की आवश्यकता नहीं

सामग्री:-

  • देशी गाय का गोबर 10 किलो

  • देशी गाय का मूत्र 10  लीटर

  • काला गुड (देशी) 500 ग्राम

  • किसी भी दल का आटा : 500 ग्राम

  • पुराना मटका : एक 1

बनाने की विधि :-

  • सबसे पहले गुड को थोड़े से गौमूत्र में मिला लें, एवं सुनिश्चित करें की गांठ न बची हो

  • इसके बाद दाल के आटे को थोड़े से गौमूत्र में मिला लें

  • इसके बाद सभी सामग्री को मटके में डाल के हाँथ से से मिला लें

  • सभी सामग्री मिल जाने के बाद लकड़ी के डंडे से ३ मिनट सीधी दिशा में एवं ३ मिनट उलटी दिशा में घुमाएँ 

  • मटके के मुह को सूती कपडे से बांधकर छाव में 10 दिन के लिए छोड़ दें

  • प्रतिदिन सुबह एवं शाम इसको लकड़ी के डंडे से मिलाये

  • 10 दिन के बाद मटका खाद तयार है

उपयोग करने का तरीका :-

  • उपरोक्त मटका खाद 200 लीटर पानी मे मिलाने के लिए पर्याप्त है , इसे फसलों के बीच या मेड पर 12-15 दिन के अंतराल में छिडकें

  • सिंचाई के लिए 200 लीटर प्रति एकड़

सावधानी: 

  • खाद बन जाने के बाद 2-3 दिन के अन्दर ही इसका इस्तमाल कर लें

  • ध्यान रखें की जब खेत में पर्याप्त नमी हो तभी इसका छिडकाव करें

 

अधिक जानकारी के लिए: 

पत्राचार हेतु : वैदिक वाटिका, कैलाश ट्रेडिंग कंपनी के निकट, रास्ट्रीय राजमार्ग 78 . गम्हरिया, जशपुर नगर ४९६३३१ , छत्तीसगढ़ 

ईमेल : INFO@VEDICVATICA.ORG

Posted on

जीवामृत

जय जवान, जय किसान , जय विज्ञान

| स्वयं बनाये रसायन मुक्त खेती में प्रयुक्त होने वाली दवा, खाद एवं अन्य सामग्री |

फायदे:

  1. फसल कि संतुलित बढ़ोतरी में सहायक

  2. फल, फूल एवं उत्पादन क्षमता में इजाफा

सामग्री :-

  1. 200 लीटर पानी

  2. 10 किलो देसी गाय का गोबर

  3. 1 किलो पीसी हुई कोई भी दाल

  4. 1 किलो गुड

  5. 5 लीटर देसी गाय का मूत्र

  6. एक मुट्ठी सजीव मिट्टी 

बनाने कि विधि :

  1. एक ड्रम में 200 लीटर पानी डालकर सबसे पहले गुड मिलाएं (छोटे टुकड़े करके थोड़े से पानी में मिलकर, जिससे गठान या टुकड़े न बचें)

  2. इसके बाद पीसी हुई दल कि मिलाएं (दल को भी तोड़े से पानी में मिलकर पुरे पानी में मिलाएं ताकि गठान न बने)

  3. इसके बाद गोबर, गौमूत्र एवं सजीव मिट्टी मिलाएं 

  4. बांस या लकड़ी के डंडे से 10 मिनट तक एक दिशा में एवं 10 मिनट तक विपरीत दिशा में हिलाएं 

  5. ड्रम के मुह को बोर या सूती के कपड़े से ढककर 5-7 दिन के लिए छायादार स्थान पर छोड़ दें 

  6. प्रतिदिन शाम के समय एक बार 10 मिनट तक लकड़ी या बांस के डंडे से हिलाएं

  7. 30-48 घंटे में यह इस्तमाल के लिए तैयार हो जाता है 

उपयोग करने का तरीका :

छिडकाव हेतु :

  • 1 लीटर जीवामृत 10 लीटर पानी में मिलकर फसलों पर सुबह या शाम के समय छिडकाव करें

  • फसल कि स्थिति के अनुसार 7-10 के अंतराल में दोबारा उपयोग किया जा सकता है

सिंचाई में :

  • एक एकड़ खेत के लिए 200 लीटर जीवामृत सिंचाई के साथ उपयोग करें |

सावधानी :

  • 6-7 दिन के अन्दर ही इसका इस्तमाल कर लेवें 

  • ज्यादा पुराना होने के बाद यह उपयोग के लिए ऊयुक्त नहीं रहता 

अधिक जानकारी के लिए: 

पत्राचार हेतु : वैदिक वाटिका, कैलाश ट्रेडिंग कंपनी के निकट, रास्ट्रीय राजमार्ग 78 . गम्हरिया, जशपुर नगर ४९६३३१ , छत्तीसगढ़ 

ईमेल : INFO@VEDICVATICA.ORG

Posted on

अमृत घोल

जय जवान, जय किसान , जय विज्ञान

| स्वयं बनाये रसायन मुक्त खेती में प्रयुक्त होने वाली दवा, खाद एवं अन्य सामग्री |

फायदे :

  1. फसलों कि कीट रोधी क्षमता में बढ़ोतरी

  2. पौधों कि संतुलित बढवार

  3. कम मेहनत के साथ साथ सिर्फ 24 घंटे में तैयार

सामग्री:

  1. 1 लीटर गौ मूत्र

  2. 1 किलो गोबर

  3. 250 ग्राम गुड या 500 ग्राम सड़े हुए मीठे फल

  4. 10 लीटर पानी

बनाने कि विधि :

  1. 10 लीटर पानी में गोबर को मिलाये|

  2. इसके बाद गौ मूत्र मिलाएं|

  3. गुड को छोटे छोटे टुकड़े में तोड़ लें एवं थोड़े से पानी में मिलाएं| ध्यान रखे कि गुड का कोई टुकड़ा/गांठ न बचा हो, सभी पूरी तरह मिला लें |

  4. गुड के घोल को गोबर एवं गौमूत्र में मिला लें 

  5. घोल को ढक कर मिट्टी के बर्तन में 24 घंटे के लिए छोड़ दें | बर्तन के मुह को सूती कपड़े से ढक दें 

उपयोग करने का तरीका :

छिडकाव हेतु :

  • 10 लीटर पानी में 1 लीटर अमृत घोल मिलकर छिडकाव करें |

  • फसल कि बढवार एवं आवश्यकता अनुसार 8-12 दिन के अनातारल में इसका छिडकाव किया जा सकता है |

सिंचाई में :

  • एक एकड़ खेत के लिए 80-100 लीटर अमृत घोल सिंचाई के साथ उपयोग करें |

 

अधिक जानकारी के लिए: 

पत्राचार हेतु : वैदिक वाटिका, कैलाश ट्रेडिंग कंपनी के निकट, रास्ट्रीय राजमार्ग 78 . गम्हरिया, जशपुर नगर ४९६३३१ , छत्तीसगढ़ 

ईमेल : INFO@VEDICVATICA.ORG

Posted on

गाढ़ा अमृत घोल 

जय जवान, जय किसान , जय विज्ञान

| स्वयं बनाये रसायन मुक्त खेती में प्रयुक्त होने वाली दवा, खाद एवं अन्य सामग्री |

फायदा:

फसल कि बेहतर बढवार | स्वस्थ पौधे | सभी पोषक तत्व ग्रहण करने कि क्षमता में इजाफा | कम मेहनत में तैयार | नहीं के बराबर लागत | बाजार से कोई भी सामग्री खरीदने कि आवश्यकता नहीं

सामग्री :- 

  1. गौ मूत्र  (देशी, स्वक्षंद चरने वाली गाय का सर्वोत्तम): 5 (पांच) लीटर

  2. ताजा गोबर  (देशी, स्वक्षंद चरने वाली गाय का सर्वोत्तम) : 1 किलो

  3. ख़राब हो चुके (सड़ चुके या ज्यादा पके हुए ) फलों का रस : 5 लीटर

  4. 6-8 लीटर कि जगह वाला मिट्टी का बर्तन

  5. सूती कपडा

बनाने कि विधि :

  1. तीनो  घटक तत्वों (गौ मूत्र, गोबर एवं रस) को हाँथ से 10 मिनट तक मिलाएं

  2. सूती कपड़े से मिट्टी के बर्तन में ढक कर 5 दिनों के लिए छोड़ दें

उपयोग करने का तरीका :

  • सिंचाई के पानी के साथ गढ़ा अमृत घोल का प्रयोग करें

  • विशेष : प्रति एकड़ 25-30 लीटर गढ़ा अमृत घोल का प्रयोग सर्वोत्तम है

अधिक जानकारी के लिए: 

पत्राचार हेतु : वैदिक वाटिका, कैलाश ट्रेडिंग कंपनी के निकट, रास्ट्रीय राजमार्ग 78 . गम्हरिया, जशपुर नगर ४९६३३१ , छत्तीसगढ़ 

ईमेल : INFO@VEDICVATICA.ORG

Whatsapp : 8889291601